Sunday, February 7, 2021

ऑनलाइन खरीदारी से पहले बरते ज़रूरी सावधानियां

ऑनलाइन शॉपिंग से पहले ज़रूर जाने लें ये बातें



कोरोना काल में हमारे बहुत सारे काम ऑनलाइन होने लगे हैं। हालांकि कोरोना से पहले भी ये काम ऑनलाइन होते थे लेकिन अब अधिक मात्रा में होने लगे हैं। वो चाहे खाना मँगवाना हो या फिर पेमेंट करना हो सब ऑनलाइऩ हो रहा है और ऑनलाइन मार्केट ज़ोर पकड़ रहा है। ऑनलाइन शॉपिंग का चलन भी बहुत ज़ोरों पर है। कोरोना के अलावा भी  इसके बहुत से कारण हैं। 




क्या है ऑनलाइन शॉपिंग?  


जब हम अपनी ज़रूरत का सामान  ऑनलाइन चुनते हैं और उसका ऑनलाइन पेमेंट करते हैं और एक निश्चत समय सीमा में वो सामान हमारे पास पहुंच जाता है तो इसे ऑनलाइन शॉपिंग कहते हैं। 

ऑनलाइन शॉपिंग का खरीदारी का चलन बढ़ता ही जा रहा है। एक अनुमान के मुताबिक भारत में लगभग 4 लाख करोड़ रुपये का इ कॉमर्स का बाज़ार है। इसमें कोई शक़ नहीं कि आने वाले दिनों में ऑनलाइन खरीदारी का क्रेज और बढ़ेगा। भारतीय ग्राहक मोबाइल फोन और अन्य ज़रूरी चीजें ऑनलाइन खरीदना पसंद करते हैं। 

ऑनलाइन ख़रीदारी के कुछ फायदे हैं तो कुछ नुक़सान भी हैं?


ऑनलाइन शॉपिंग के फ़ायदे


1- इसमें समय की बचत होती है।
2- कहीं आना-जाना नहीं पड़ता है।
3- अच्छी क्वालिटी की कई वैराइटियों में चुनने की सुविधा रहती है।
4- पसंद नहीं आने पर वस्तुओं  को लौटाया भी जा सकता है।
5- डिलीवरी के समय पेमेंट करने की सुविधा भी मिलती है।
6- कई बार कुछ सामान किसी बड़ी रिटेल की दुकान की अपेक्षा सस्ता भी मिल जाता है।
7- कुछ  बैंकों के क्रेडिट कार्ड और डेबिट कार्ड से पेमेंट करने पर अतिरिक्त छूट मिल जाती है।



ऑनलाइन शॉपिंग के नुक़सान


ऑनलाइन शॉपिंग के नुक़सान भी कम नहीं है।


1- हम ऑनलाइन देखकर आइटमों को चुनाव करते हैं जिससे कई बार प्रोडक्ट ऐसा नहीं निकलता जैसा देखने पर 
    लगा था।
2- ख़ासकर रंग के मामले में धोखा हो जाता है। जो रंग ऑनलाइन अच्छा लगता है वही रंग का आइटम जब    
     आपके हाथों में आता है तो उतना अच्छा नहीं लगता।
3- कई बार प्रोडक्ट के स्थान पर कुछ और ही पकड़ा दिया जाता है यानी  धोखाधड़ी हो जाती है।
4- जिस वेबसाइट से ख़रीदारी करते हैं उस पर संबंधित प्रोडक्ट की रेटिंग होती है। उस प्रोडक्ट को पहले ख़रीद        चुके ग्राहकों की मिली -जुली प्रतिक्रियाएं होती हैं। कोई उसे सही बताता है तो कोई उसे ख़राब। ऐसे में ये तय          करना बड़ा मुश्किल हो जाता है कि संबंधित प्रोडक्ट ख़राब है या वाकई में ख़रीदा जा सकता है।
5- इससे भी बड़ी बात यह है कि सभी प्रोडक्ट के बारे में कन्फ्यूजिंग राय होती है। ऐसे में प्रोडक्ट यानी आइटम का       चुनाव करना  मुश्किल होता है।
6-  ऑनलाइन पेमेंट करने में अक्सर पैसा कट जाता है जबकि ई-कॉमर्स कंपनी के खाते में पैसा नहीं पहुंच पाता।  
      ऐसे में कटा हुआ पैसा वापस आने में 3-4 दिन और कभी-कभी ज्यादा दिन भी लग जाते हैं।
7-   जिस आइटम का पेमेंट एडवांस हो चुका हो और उसको हम लौटाना चाहें तो लौटा तो सकते हैं लेकिन उसका 
      रिफंड मिलने में एक सप्ताह से भी ज्यादा का समय लग जाता है। कभी-2 तो रिफंड आपके बैंक अकाउंट में           न आकर ई-कॉमर्स कंपनी अपने ऑनलाइन पेमेंट कार्ड में जमा करा देती है जिसे आप अगली शॉपिंग में               इस्तेमाल कर सकते हैं।

ऑनलाइन शॉपिंग से पहले इन  बातों को ध्यान में रखें:-


1- आप जिस आइटम को ख़रीद रहे हैं अगर उसका रंग आपके लिए बहुत महत्वपूर्ण है तो कोशिश करिए कि उसे पास की रिटेल दुकान से ख़रीदें। थोड़े बहुत पैसे भले ही ज्यादा लग जाए लेकिन सामानआपकी मनपसंद  मिलेगा। ऑनलाइन में कई बार जिस रंग का सामान दिखाते हैं उसकी डिलीवरी नहीं करते। जो काफी निराशाजनक हो सकता है। रिटर्न की प्रक्रिया भी थोड़ा सा परेशान करने वाली  होती है।


2- आप ऑनलाइऩ सामान मंगवाते वक्त ध्यान रखिए कि अगर सामान वापस करना पड़ा तो अगले दिन          ही कंपनी का बंदा सामान लेने आ पाएगा। यानी आपके पास इतना वक्त होना चाहिए। 


3- सामान काऑर्डर करने से पहले संबंधित कंपनी के कस्टमर केयर से यह ज़रूर जान लें कि अगर  
   आइटम वापस करना पड़ा तो डायरेक्ट उसका रिफंड ही मिलेगा या आइटम रिप्लेस किया जाएगा।
   दरअसल होता यह है कि बहुत से आइटम अगर ख़राब निकल जाए तो उसकी कंपनी उस आइटम को 
  पहली बार में लौटाने की बजाय उसको रिप्लेस करेगी। अगर दूसरी बार भी आइटम खराब निकल जाए  
   तो रिफंड मिल सकता है।


4- अगर आप ऑनलाइन पेमेंट से बचना चाहते हैं तो कैश-ऑन-डिलीवरी का ऑप्शन चुन सकते हैं।
5- डिलीवरी लेते उसे लाने वाले व्यक्ति के सामने ही सामान को चैक करने में कोई हर्ज नहीं है। अगर सामान महंगा है तो पैक खोलते वक्त  वीडियो बना सकते हैं। फोटो तो ज़रूर ही लें।


6- अगर सामान आपके मन को नहीं भा  रहा है या उसकी क्वालिटी में कोई कमी है तो फौरन रिटर्न की प्रक्रिया शुरू कर दें।


7-  कभी-कभी कुछ सस्ते आइटमों में चुनाव करना बड़ा कठिन होता है। ऐसे में दो समान आइटम का ऑर्डर दिया जा सकता है बाद में जो ज्यादा अच्छा लगे उसे रखा जा सकता है और दूसरे को लौटाया जा सकता है।



     इसके अतिरिक्त भी ऑनलाइन शॉपिंग करते वक्त जो सावधानियां आप बरत सकते हैं बरतनी चाहिए। अगर आप ध्यान से ऑनलाइन शॉपिंग करेंगे तो निराशा नहीं होंगे।

No comments:

Post a Comment

सभ्य और शालीन प्रतिक्रियाओं का हमेशा स्वागत है। आलोचना करने का आपका अधिकार भी यहाँ सुरक्षित है। आपकी सलाह पर भी विचार किया जाएगा। इस वेबसाइट पर आपको क्या अच्छा या बुरा लगा और क्या पढ़ना चाहते हैं बता सकते हैं। इस वेबसाइट को और बेहतर बनाने के लिए बेहिचक अपने सुझाव दे सकते हैं। आपकी अनमोल प्रतिक्रियाओं के लिए आपको अग्रिम धन्यवाद और शुभकामनाएँ।