Showing posts with label पाकिस्तान. Show all posts
Showing posts with label पाकिस्तान. Show all posts

Tuesday, February 26, 2019

पुलवामा हमले का जवाब


आख़िरकार वह वक़्त आ ही गया जब भारत के सब्र का बांध टूट गया। भारतीय वायु सेना का पाकिस्तान में घुसकर जैश ए मोहम्मद के अड्डों को तबाह करने में कुछ भी अप्रत्याशित नहीं है। इसकी उम्मीद उसी दिन से होने लगी थी जब 14 फरवरी को जैश ए मोहम्मद के  सरगना मसूद अजहर के इसारे पर एक आत्मघाती हमलावर ने सीआरपीएफ के काफिले पर हमला कर दिया थ जिसमें 40 जवान वीरगति को प्राप्त हो गए थे।
पुलवामा आतंकी हमले के 12 दिन बाद बाद 26 फरवरी की  भारतीय वायु सेना(Indian Air force) ने  तड़के करीब साढ़े तीन बजे पाकिस्तान में घुसकर जैश ए मोहम्मद के ठिकानों पर हमला कर उन्हें तबाह कर दिया। बालाकोट नामक जिस स्थान पर हमला हुआ है उसे आतंकवादियों का गढ़ माना जाता है। बालाकोट, एलओसी से तकरीबन 80 किलोमीटर दूर है। भारतीय वायुसेना की इस साहसिक कार्रवाई से पाक में हड़कंप मचना लाजिमी था। उम्मीद के मुताबिक वायु सेना की कार्रवाई से भारत में उत्साह का माहौल है। 14 फरवरी के आतंकी हमले में वीरगति पाने वाले जवानों के परिजनों की प्रतिक्रिया भी उत्साहजनक है।


जरूरी थे ये कार्रवाई

14 फरवरी 2019 के आतंकी हमले  के बाद भारत सरकार पर बदला लेने का दबाव था। बदला लिया ही जाना चाहिए था। हमले की जिम्मेदारी जैश-ए-मोहम्मद द्वारा लेने के बाद पाकिस्तान को चाहिए था कि वो तत्काल इन आतंकियों पर कार्रवाई करता। लेकिन हमेशा की तरह पाकिस्तानी सरकार ने हमले में पाक स्थित आतंकियों के शामिल होने के सबूत मांगने शुरू कर दिए। ये एक बेशर्मी भरी कूटनीति थी। आख़िर जब पाक स्थित आंतकी संगठन हमले की जिम्मेदारी ले रहा है तो फिर और कितने सबूत चाहिए थे? भारत सरकार समझ चुकी थी कि पाकिस्तान इन आतंकियों पर कार्रवाई नहीं करने वाला। परिणामस्वरूप आज यानी 26 फरवरी 2019 की तड़के आईएएफ ने मिराज -2000 लड़ाकू विमानों से  आतंकियों पर 1000 किलो बम गिराए। बताया जा रहा है कि इस कार्रवाई में 300 से ज्यादा आतंकी मारे गए हैं।


पाकिस्तान की 'ना'

आदत के मुताबिक शुरुआत में पाकिस्तान ने भारतीय वायु सेना के हमले को नकार दिया। पाकिस्तान सेना के प्रवक्ता मेजर जनरल आसिफ़ गफूर ने ट्वीट किया। जिसका हिन्दी में अनुवाद कुछ इस तरह है: " भारतीय एयरक्राफ्ट मुजफ्फराबाद सेक्टर में घुसे। पाकिस्तानी एयरफोर्स की समय पर की गई प्रभावी कार्रवाई से बचकर जाते समय वे जल्दबाजी में बालाकोट के पास विस्फोटक पदार्थ गिरा गए। किसी प्रकार के जान-माल का नुक़सान नहीं हुआ।" वैसे पाकिस्तान  में सत्तारूढ़ दल, पाकिस्तान तहरीक ए इंसाफ पार्टी ने भी लगातार कई ट्ववीट कर भारतीय वायु सेना की कार्रवाई का खंडन किया। हालांकि पाकिस्तानी नागरिकों का कुछ और ही कहना है। बीबीसी से बात करते हुए एक शख्स ने बताया कि लगभग तीन बजे बहुत तेज धमाका हुआ। फिर पांच धमाके हुए  और इसके बाद आवाज आनी बंद हो गई।  


पाकिस्तान की धमकी

पाकिस्तान के विदेश मंत्री, शाह महमूद कुरैशी ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि भारतीय वायु सेना के नियंत्रण रेखा के उल्लंघन के मद्देनज़र पीएम, इमरान खान की अध्यक्षता में एक विशेष बैठक बुलाई गई थी। बैठक के ब्योरे को पढ़ते हुए कुरैशी ने कहा कि पाकिस्तान अपनी पसंद के समय और स्थान पर भारत के दुस्साहस का जवाब देगा।  कुरैशी ने ये भी कहा कि हेलीकॉप्टर तैयार है। अगर मौसम सही हुआ तो स्थानीय व अंतरराष्ट्रीय मीडिया को उस स्थान पर ले जाया जाएगा जहां भारतीयों द्वारा उल्लंघन हुआ है और भारत के प्रोपेगैंडा की पोल खोलेगा।


भारत दबाव रखे बरकरार

पाकिस्तान चाहे जितनी भी ना नुकर करे लेकिन वहां की आवाम में हलचल मची हुई है। लोग सरकार और सेना से सवाल कर रहे हैं। इन सवालों से बचने के लिए ही पाकिस्तान झूठ बोलता है। भारत को स्प्ष्ट कर देना चाहिए कि पाकिस्तान जब तक मसूद अजहर और हाफिज सईद जैसे आतंकियों पर कार्रवाई नहीं करेगा तब तक इस तरह के हमले जारी रहेंगे। हालांकि पाकिस्तान भी बदले की कार्रवाई कर सकता है। जिसकी संभावना बहुत ज्यादा है। लेकिन उसका जवाब  देने के लिए भारतीय सेना तैयार है। वैसे भी पाकिस्तान जैसा पड़ोसी हो तो हर वक्त तैयार रहना ही पड़ता है।